बॉयकॉट गैंग के खिलाफ सामने आए धर्मा प्रोडक्शन के कास्टिंग डायरेक्टर हिमालय अग्रवाल।


मुंबई, आजकल फिल्म इंडस्ट्री संकट के दौर से गुजर रही है, एक तो कोरोना काल ने अच्छों अच्छों की हालत खराब कर दी। ऐसे में फिल्मों का औंधे मुंह गिरना और भी घातक है। और रही सही कसर आज बॉयकॉट गैंग पूरी कर रहा है। पहले लाल सिंह चड्ढा और अब ब्रह्मस्त्र की असफलता का ठिकरा बॉयकॉट गैंग पर फोड़ दिया गया है। कुछ भी हो फिल्मों का बूरी तरह पिटना इंडस्ट्री के लिए अच्छा नहीं है, क्योंकि फिल्म इंडस्ट्री से जहां लाखों लोगों के घर चूला जलता है, वहीं सरकार को भी अच्छा खासा टैक्स मिलता है।
इसी गंभीर विषय को लेकर आज जाने माने कास्टिंग डायरेक्टर हिमालय अग्रवाल ने अपनी कंपनी के 15 वर्ष पूरे होने पर व अपने जन्मदिन के मौके पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रख जहां कास्टिंग काउच जैसे मुद्दे पर पत्रकारों के सवालों के जवाब दिए वहीं बायकॉट गैंग के खिलाफ अपनी आवाज जमकर बुलंद की।

*बॉयकॉट करने वालो को जेल में डालना चाहिए।*
करन जौहर, आदित्य चोपड़ा जैसे दिग्गज फिल्मकारों की फिल्मों के लिए कास्टिंग करने वाले सीनियर कास्टिंग डायरेक्टर हिमालय अग्रवाल ने कहा कि जो फिल्मों का बॉयकॉट करते हैं उन्हें शायद ये नही पता कि एक फिल्म जब बनती है तो हजारों लोगों को रोजगार मिलता है आज आप भी आए है तो आप को भी काम मिला है। ये गैंग राजनीति से प्रेरित पैसा लेकर सोशल मीडिया पर किसी का भी बॉयकॉट कर देते है। मेरा बस चले तो एक एक को जेल में डाल दू। सरकार जब टैक्स लेती है तो सरकार को इस गंभीर विषय पर कोई एक्शन लेना चाहिए।

*कास्टिंग काउच जैसी कोई चीज मेरे हिसाब से अस्तित्व में ही नहीं रखती।*

कास्टिंग काउच के मसले पर हिमालय अग्रवाल ने कहा कि हम कास्टिंग करते है टैलेंटेड लोगों को काम देते है ये काउच क्या है हमें नहीं पता, हम तो 15 वर्षों से हजारों लोगों को फिल्मों में काम दिला चुके है। मेरा अपना मानना है कि कुछ चंद लोग कास्टिंग के नाम पर सब से अच्छी इंडस्ट्री को बदनाम करते है। उनका इस इंडस्ट्री से कोई लेना देना नही होता।

*बीफ खाना आप की अपनी पसंद है*

10 साल पहले बोली गई बात पर अब अचानक विरोध होना ये बताता है कि ये काम एक गैंग द्वारा करवाया जा रहा है। बीफ खाने की बात किसी ज़माने में ऋषि कपूर साब ने भी की थी, कश्मीर फाइल के निर्देशक विवेक अग्निहोत्री ने भी की थी उनका विरोध नहीं किया इस गैंग ने। मेरा मानना है मुझे सिगरेट पीना अच्छा लगता है मैं पीता हु ये मेरा निजी मामला है। इससे मेरे टैलेंट का क्या लेना देना। 25 साल से आमिर खान सलमान खान अच्छे लग रहे थे अब अचानक वो बुरे हो गए।
क्या स्टार्स के गलत बयानों को जनता को नजरंदाज कर देना चाहिए?
इस पर हिमालय ने कहा कि सितारों को भी बचना चाहिए किसी भी तरह के बयान से, लेकिन यहां कुछ मीडिया के लोग भी गलत करते है हंसी मजाक में कही गई बातों को तोड़ मरोड़ कर पेश कर देते है। और उसका लाभ ये बॉयकॉट गैंग ले लेते है।
यहां मैं मेरा व्यू रखते हुए भी यही कहना चाहूंगा कि मुट्ठीभर लोगों के बैन का असर वाकई इतना नही हो सकता कि फिल्म बुरी तरह फ्लॉफ ही जाए, फिल्म का कॉन्टेंट भी कहीं न कहीं जिम्मेदार है फिल्म की असफलता के लिए। मगर हम इस नाकामी का ठिकरा इस बॉयकॉट गैंग पर फोड़ रहे है। क्यूंकि अमीर की पी के, दंगल के समय भी विरोध के स्वर उठे थे लेकिन फिल्म के कॉन्टेंट के सामने किसी की नही चली।

VS NATION
Author: VS NATION